रविवार, 1 दिसंबर 2013

मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव

आगे-आगे शिवराज, पीछे-पीछे महाराज भोपाल। मुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा चल रही है। यात्रा में भीड़ उमड़ रही है। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नरेन्द्र सिंह तोमर कहते हैं- जन आशीर्वाद यात्रा में उमड़ रहे लोग हमारी उम्मीदों से ज्यादा हैं। शिवराज सिंह चौहान आधे से अधिक विधानसभा क्षेत्रों की जनता से आशीर्वाद मांग चुके हैं। अक्टूबर तक वे प्रदेश की अधिकांश विधानसभा क्षेत्रों की यात्राएं कर चुके होंगे। 25 सितंबर को पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर भाजपा का कार्यकर्ता महाकुंभ है। इसमें पांच लाख से अधिक लोगों के जमावडे की उम्मीद है। इसके पहले भाजपा ने युवा मोर्चा और महिला मार्चा समेत लगभग अधिकांश मोर्चा-प्रकोष्ठों की बैठकें और अधिवेशन कर उन्हें चुनाव के लिहाज से तैयार कर दिया है। दूसरी तरफ कांग्रेस ने भी अपनी तैयारियां देर से ही सही, लेकिन शुरू कर दी है। पूर्व केन्द्रीय मंत्री स्वर्गीय माधवराव सिंधिया के पुत्र और वर्तमान केन्द्र सरकार में मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को चुनाव प्रचार समिति का अध्यक्ष बनाकर कांग्रेस ने चुनावी बिगुल बजा दिया है। राजनीतिक विश्लेषकों के अनुसार, सत्ता विरोधी भावनाओं पर शिवराज का चेहरा हावी है। भाजपा संगठन और सरकार दोनों ने शिवराज का लोकप्रिय चेहरा जनता के सामने प्रस्तुत किया है। इसका जवाब कांग्रेस ढ़ूंढ रही है, लेकिन अभी तक मिला नहीं है।
मध्यप्रदेश में चुनाव की तिथि घोषित नहीं हुई है, लेकिन नवम्बर में निर्वाचन और दिसंबर में सरकार का गठन तय है। सभी पार्टियां इसी हिसाब से अपनी तैयारियां कर रही हैं। भाजपा ने शिवराज सिंह चौहान को पहले ही अपना नेता घोषित कर रखा है। लेकिन विपक्षी दल कांग्रेस इस मामले में काफी पीछे है। गुटीय वर्चस्व की लड़ाई के कारण कांग्रेस अभी तक अपना नेता तय नहीं कर पाई है। कांग्रेस के नेता भले ही मुख्यमंत्री के लिए एक-दूसरे का नाम ले रहे हैं, लेकिन मन-ही-मन वे स्वयं को ही इस कुर्सी का दावेदार सिद्ध करने की भरसक कोशिश कर रहे हैं। भाजपा के नेता भले ही इसे कांग्रेस के नेताओं का नाटक कहें, लेकिन वे एकजुट होने का भरसक प्रयास भी कर रहे हैं। हालांकि इस प्रयास में कांग्रेस आलाकमान ने कांग्रेस के महासचिव और मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के साथ नाइंसाफी कर दी है। मध्यप्रदेश में कांग्रेस की किसी भी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी से दिग्विजय सिंह को दूर रखा गया है। कांग्रेस की ओर से ज्योतिरादित्य सिंधिया, कमलनाथ, अजय सिंह, सुरेश पचौरी और कांतिलाल भूरिया ने चुनावी कमान संभाल रखी है। राजनीति के जानकारों के मुताबिक कांग्रेस आलाकमान ने जानबूझकर दिग्विजय सिंह को पर्दे के पीछे रखा है। जानकार बताते हैं कि चूंकि वर्ष 2003 का चुनाव भाजपा ने दिग्विजय सिंह से ही जीता था। तब भाजपा के विरोध और प्रचार का नारा था ‘‘मिस्टर बंटाधार’’, यह संबोधन दिग्विजय सिंह के लिए ही था। कांग्रेस के चुनावी रणनीतिकारों ने यह अनुमान लगाया है कि इस बार भाजपा के प्रचार का केन्द्र ‘दिग्विजय का कुशासन बनाम शिवराज का सुशासन’ होगा। कांग्रेस को लगता है कि दिग्विजय सिंह की नाकामियां, उनका कुशासन और सड़क, पानी और बिजली की उपेक्षा लोगों को अभी याद होंगी। अगर दिग्विजय सिंह को आगे रखा तो संभव है प्रदेश की दुर्दशा की यादें ताजा हो जायें। भाजपा के नेताओं को पता है, दिग्विजय सिंह पर्दे के पीछे रहें या सामने वे अपना खेल खेलेंगे ही। इसलिए भाजपा चुनावी तैयारी में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती। चुनावी तैयारियों को देखकर साफ लगता है कि शिवराज आगे-आगे चल रहे हैं और महाराज पीछे-पीछे। कमोशबेश यही स्थिति भाजपा और कांग्रेस की है। सत्ता में रहते हुए भी भाजपा आक्रामक है, लेकिन कांग्रेस विपक्ष में है, फिर भी सुरक्षात्मक। भाजपा ने अपने प्रचार की रणनीति इस प्रकार बनाई है ताकि वह केन्द्र सरकार के भ्रष्टाचार, महंगाई और घोटालों को उजागर करे, साथ ही शिवराज सरकार की उपलब्धियों को भी जनता के सामने रख सके। देखा जाए तो पिछले दिनों कई ऐसी घटनाएं हुई जो भाजपा को परेशान करने वाली सिद्ध हुई। लेकिन शिवराज की लोकप्रियता और छवि ने सबको पछाड़ दिया। शिवराज सिंह चौहान ने अपने लगभग 8 वर्षों के कार्यकाल में विभिन्न वर्गों के लिए कई योजनाएं लागू की है। विभिन्न वर्गों के लिए आयोजित पंचायतों ने जहां एक ओर मुख्यमंत्री को सीधे संवाद का मौका दिया वहीं उपेक्षित समूहों को अपनी बात रखने का प्लेटफॉर्म और अवसर मिला। कांग्रेस मुख्यमंत्री को भले ही घोषणावीर कहकर आलोचना करती हो, लेकिन शिवराज सरकार ने अधिकांश घोषणाओं को लागू कर आम जनता में भरोसा और विश्वास पैदा किया है। शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश के सभी तबकों को खुश करने की कवायद की है। गौरतलब है कि प्रदेश में प्रभात झा के रहते जहां भाजपा ने सभी उप चुनावों में जीत दर्ज की थी, वहीं नये अध्यक्ष नरेन्द्र सिंह तोमर के अध्यक्षीय कार्यकाल में अधिकांश उप चुनावों में कांग्रेस को सफलता मिली है। इस जीत-हार की व्याख्या मध्यप्रदेश भाजपा के संगठन मंत्री अरविंद मेनन इस तरह करते हैं- हम उप चुनाव में हारे नहीं, बल्कि कांग्रेस से उसकी सीट नहीं ले सके। अर्थात् कांग्रेस जिन उप चुनावों में जीती है वहां वह पहले से ही काबिज थी। भाजपा ने अपनी कोई सीट नहीं गवांई। बहरहाल, मध्यप्रदेश में अगर चुनावी आंकड़ों का विश्लेषण करें तो स्पष्ट है कि वर्ष 2003 में जिस तरह की जीत भाजपा को और जिस प्रकार की हार कांग्रेस को मिली थी, 2008 में उसमें काफी परिवर्तन आ गया। 2003 में जहां 67.41 प्रतिशत मतदान हुआ था और भाजपा को 173, कांग्रेस को 38 तथा अन्य को 19 सीटें मिली थी। इस चुनाव में जहां भाजपा को 42.5 प्रतिशत मत मिला, वहीं कांग्रेस को 31.7 प्रतिशत। शेष मत अन्य दलों को मिले। कांग्रेस और भाजपा के बीच मतों का यह अन्तर असामान्य था। शेष मत निर्दलीय, बसपा, सपा, गोगपा अन्य दलों में विभाजित हो गए थे। किन्तु 2008 के चुनाव में आंकड़ों में भारी फर्क हो गया। तब तक भाजपा शासन को पांच वर्ष पूरे हो चुके थे। इस चुनाव में कुल 69.52 मतदान हुआ। भाजपा को 143 और कांग्रेस को 71 सीटें मिली। भाजपा को 37.64 प्रतिशत और कांग्रेस को 32.39 प्रतिशत मत मिले। इस साल बसपा, भारतीय जनशक्ति, सपा और निर्दलीयों की बीच शेष वोटों का बंटवारा हुआ। इस साल होने वाले चुनाव में सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण हैं युवा और नये मतदाता। चुनाव आयोग से लेकर स्वयंसेवी संगठनों और राजनीतिक दलों ने भी मतदाता जागरूकता के लिए बढ़-चढ़कर प्रयास किया है। इसका असर विधानसभा और बाद में लोकसभा चुनाव पर होना लाजिमी है। उल्लेखनीय है कि इस विधानसभा चुनाव के लिए कुल 4.65 करोड़ मतदाता हैं। इनमें 87.94 लाख मतदाता 18 से 23 साल आयु वाले हैं। लगभग 35 प्रतिशत मतदाता युवा हैं। राजनीतिक पर्यवेक्षकों के अनुसार जिस दल को इन युवा मतदाताओं का समर्थन मिलेगा उसे ही सफलता मिलेगी। वही सरकार बनायेगा। राजनीति की भविष्यवाणियां करने वाले कयास लगा रहे हैं। उनके अनुसार राष्ट्रीय पर स्तर भले ही युवा नरेन्द्र मोदी के प्रति आकर्षित हो, लेकिन मध्यप्रदेश में स्थिति अलग है। प्रदेश में शिवराज और सिंधिया दोनों ही युवा मतदाताओं पर अपनी दावेदारी कर रहे हैं। देखना यह है कि 54 वर्षीय शिवराज युवाओं को अपने पक्ष में रख पाते हैं या 42 वर्षीय ज्योतिरादित्य युवाओं से जुड़ पाते हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया के लिए खुद को साबित करने का मौका है। प्रदेश में पिछले दस वर्षों से कांग्रेस सत्ता से दूर है। कांग्रेस पार्टी आलाकमान ने बहुत सोच-समझकर सिंधिया पर दांव खेला है। सिंधिया के लिये यह अहम लेकिन कठिन और चुनौती भरी जिम्मेदारी है। हालांकि सिंधिया के पास अपने सिद्ध करने के लिए बहुत कम समय है, लेकिन दिग्विजय सिंह, भूरिया और अजय सिंह को छोड़कर अधिकांश नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया का पक्ष ले रहे हैं। केन्द्रीय मंत्री कमलनाथ और सांसद सत्यव्रत चतुवेर्दी ने कई अवसरों पर सिधिंया के पक्ष में बयान दिया है। लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह इन सिंधिया समर्थक नेताओं से इत्तेफाक नहीं रखते। उन्होंने सार्वनिक तौर पर यह कहा है कि कांग्रेस पार्टी की जीत की स्थिति में विधायक दल द्वारा ही अपना नेता चुना जायेगा। दिग्विजय सिंह ने सिंधिया को अस्वीकार नहीं किया तो स्वीकार भी नहीं किया है। अपनी पार्टी में आंतरिक विरोध और सर्वानुमति न बनने के कारण सिंधिया ने यह कहा है कि प्रदेश में इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनाव के बाद कांग्रेस की सरकार बनने के बाद मुख्यमंत्री कोई भी बने, उन्हें कोई आपत्ति नहीं होगी। कांग्रेस और भाजपा दोनों के लिए विधानसभा का यह चुनाव बहुत महत्वपूर्ण है। कांग्रेस इस चुनाव में पिछड़ गई तो वह संगठनात्मक रूप से बहुत कमजोर हो जायेगी। लेकिन अगर भाजपा इस चुनाव में असफल होती है तो न सिर्फ उसके हाथ सबसे मजबूत संगठन वाला प्रदेश निकल जायेगा, बल्कि लोकसभा चुनाव में भी अपेक्षित लाभ नहीं मिल पायेगा। इसीलिए भाजपा बहुत ही सधे हुए अंदाज में अपनी तैयारियों को अमलीजामा पहना रही है। कांग्रेस भी भाजपा की हर तैयारी का जवाब देने की भरसक कोशिश कर रही है। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा कहते हैं- शिवराज सिंह चौहान का व्यक्तित्व और उनकी छवि सब पर भरी है। वे जननेता हैं। प्रदेश की जनता में लोकप्रिय और विश्वसनीय। श्री झा सारी शंकाओं को शिवराज की लोकप्रियता के झोंके में उड़ा देते हैं। शंकाएं भाजपा के कुछ विधायकों और मंत्रियों के बारे में व्यक्त की जा रही हैं। पार्टी द्वारा कराये गए सर्वे और कुछ और स्रोतों से प्राप्त जानकारी के अनुसार कई विधायकों और मंत्रियों के क्षेत्रों में नाराजगी है। ये नाराजगी और विरोध पार्टी के लिए नुकसानदायक हो सकती है। लेकिन भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और जन आशीर्वाद यात्रा में शिव के सहयात्री प्रभात झा कहते हैं- ‘शिवराज सिंह चौहान जहां-जहां जन आशीर्वाद के लिए पहुच रहे हैं, उनको देखने, मिलने और सुनने के लिए जन-सैलाब उमड़ रहा है। जनता की आंखों में अपने लाडले मुख्यमंत्री के लिए प्यार है। यह सब पर भारी है।’ भाजपा नेताओं के दावे अपनी जगह सही हो सकते हैं, लेकिन सत्ता-विरोधी भावनाएं, विधायकों के प्रति स्थानीय असंतोष और ज्योतिरादित्य सिंधिया के रूप में कांग्रेस का नया और युवा चेहरा सबसे बड़ी चुनौती है, जबकि कांग्रेस के लिए शिवराज सिंह चौहान की लोकप्रियता और पार्टी की गुटबाजी सबसे बड़ी चुनौती। अनिल सौमित्र भोपाल से 09425008648

कोई टिप्पणी नहीं: