गुरुवार, 11 नवंबर 2010

अपने गुनाहों पर पर्दा डालने के लिए गुनाहगारों ने संतों के उपर उंगली उठाई है : पूर्व सांसद आरिफ बेग


संघ के धरने में उमड़ा विशाल जन समूह
भोपाल। यूपीए सरकार के हिंदू विरोधी दुष्प्रचार के खिलाफ संघ के आह्वान पर देशभर में धरने का आयोजन किया गया। भोपाल सहित मध्यप्रदेश के सभी जिला केन्द्रों और कुछ तहसीलों में भी धरने का आयोजन किया गया। इस धरने में सभी स्थानों पर आम लोगों ने भी काफी बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। भोपाल में दोपहर 12 बजे से 2 बजे तक धरने का आयोजन था।
इस अवसर पर निर्वतमान सरसंघचालक श्री कुप्प सी सुदर्शन ने दीप प्रज्जवलित कर धरने की शुरूआत की। लगभग 10 हजार से अधिक लोग उपस्थित हुए। इस धरने में मुसलमानों ने भी काफी तादाद में भागीदारी की। धरने में वृद्धों, युवाओं और महिलाओं समेत सभी आयु वर्ग के लोगों ने अपना समर्थन खुलकर संघ के पक्ष में दिया।
वक्ताओं ने केंद्र और कांग्रेस की सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि वह प्रशासनिक तंत्र का दुरूपयोग संघ एवं अन्य हिन्दू संगठनों तथा संतों के खलाफ खुलकर कर प्रयोग कर रही है। संघ के क्षेत्रीय प्रचार प्रमुख नरेंद्र जैन ने कहा कि धरना, प्रदर्शन और भाषण संघ का मूल काम नहीं है। संघ तो देश और समाज को संस्कारित कर जागृत करने में लगा है। संघ व्यक्ति-निर्माण कर देश को परम वैभव तक पहुंचाने के लिए कृत संकल्पित है। लेकिन जब राष्ट्र की भावना को आहत कर ’भगवा आतंक’ और ’हिंदू आतंक’ के नाम पर देश की आत्मा पर हमला किया गया तब संघ ने सड़क पर उतर कर इसका प्रतिकार करने का निर्णय लिया। उन्होंने कहा कि 1947 में जब देश आजाद हुआ तब सोचा गया था कि देश अपनी जड़ों की ओर लौटेगा, लेकिन चंद महीनों में ही लोगों के हाथ निराशा ही हाथ लगी। जब राष्ट्रगान की बात आई तो देश की आत्मा और आजादी के गान वंदेमातरम को लेकर विरोध किया गया। यह सब काम वह लोग कर रहे थे जिनकी आस्था देश में नहीं बल्कि मास्को और चीन पर है। आज जब संघ देश की एकात्माकता केे सूत्र में बांधने का काम कर रहा है तब उसका मनोबल तोड़ने के लिए बदनाम किया जा रहा है।
इस अवसर पर पूर्व सांसद आरिफ बेग ने कहा कि मैने इंद्रेश जी के साथ काम किया है। मैं जिस इंद्रेश कुमार को जानता हूं वह उस कश्मीर में बिना सुरक्षा के अकेले ही घूमते हैं जहां बहन सोनिया और प्रधानमंत्री सुरक्षा बलों के साथ जाने से भी कतराते हैं। वहां पर इंदे्रश कुमार मुसलमानों के घर बिना किसी सुरक्षा निवास करते हैं और खाना खाते हैं। उन्होंने कहा कि श्री सुदर्शन जी के नेतृत्व में संघ ने मुसलमानों को राष्ट्रीय धारा से जोड़ने का काम किया गया। आज करोड़ों मुसलमान अपने वतन की मिट्टी से जुड़ गए हैं। इससे घबराए कांग्रेसियों ने अपने वोट बैंक को बनाए रखने का प्लान बर्बाद होते देख संघ और इंदे्रश कुमार को बदनाम करने की साजिश रची है। उन्हांेने कहा कि अपने गुनाहोंे पर पर्दा डालने के लिए गुनाहगारों ने संतों के उपर उंगली उठाई है। लेकिन उनका बाल भी बांका नहीं होगा। वसुधैव कुटुंबकम का संदेश देने वाली संस्कृति को बदनाम करने की यह कोशिश बेनाकाब होगी। उन्होंने कहा कि हमारी पूजा पद्धति अलग-अलग हो सकती है, लेकिन सबका मालिक एक है। हम हिंदुस्थान का गौरव फिर स्थापित करके रहेंगे।
गायत्री परिवार के डॉ शंकरलाल पाटीदार ने इस मौके पर कहा कि दुनिया में हिंदुत्व जैसा कोई दूसरा विचार नहीं है। हम सब एक जुट होकर देश की अस्मिता और गौरव के लिए काम करते रहेंगे। इस अवसर पर भारतीय किसान संघ के महामंत्री प्रभाकर केलकर ने कहा कि यह धरना केवल संघ पर लगे आरोपों के लिए नहींं बल्कि हिंदूत्व को कलंकित करने के लिए रचे गए षड़यंत्र के खिलाफ है।
धरने को संबोधित करते हुए भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष प्रभात झा ने कहा कि मैं यहां पर स्वयंसेवक के नाते आया हूं, क्योंकि भारत की आत्मा पर हमला किया गया है। विचारधारा को समाप्त करने के लिए आतंकवादियों का साथ सरकार ले रही है। उन्होंने कांग्रेस को कठघरे में खड़ा करते हएु कहा कि विचारधारा की लड़ाई लडे़ लेकिन झूठे आरोप नहीं लगाए। कुछ छोटी मोटी घटनाओं से हमें दबाने की कोशिश की जा रही है। इससे हम दबने वाले नहीं हैं। उन्होंने कहा कि संघ देश और समाज की बढ़ती शक्ति है, संघ वंदेमातरम् है। संघ इस देश का प्राण है।
श्री प्रभात झा, मा. शशिभाई सेठ, श्री प्रभाकर केलकर, श्री आरिफ बेग सहित सभी वक्ताओं ने मंच से यूपीए सरकार को ललकारते हुये कहा कि यह धरना एक चेतावनी है। इस अवसर पर संघ के प्रांत संघचालक शशि भाई सेठ ने सरकार्यवाह भैयाजी जोशी का वक्तव्य पढ़ा।
धरने में निर्वतमान सरसंघचालक कुप्प सी सुदर्शन जी, क्षेत्र प्रचारक विनोद कुमार, क्षेत्र प्रचार प्रमुख नरेंद्र जैन, पूर्व मुख्यमंत्री सुंदरलाल पटवा, पूर्व सांसद कैलाश नारायण सारंग, भाजपा सह संगठन मंत्री भगवत शरण माथुर, भोपाल की महापौर कृष्णा गौर, प्रदेश महिला मार्चा की अध्यक्षा नीता पटैरिया, उपाध्यक्ष साधना सिंह, प्रांत संघचालक शशि भाई सेठ, प्रांत कार्यवाह अशोक अग्रवाल, सह प्रांत कार्यवाह हेमंत मुक्ति बोध, किसान संघ के राष्ट्रीय संगठन मंत्री प्रभाकर केलकर, विहिप के प्रांत संगठननमंत्री रोहित भाई, सांसद अनिल माधव दवे, विभाग संघचालक कांतिलाल चतर भी उपस्थित हुए।
मध्यप्रदेश के अन्य जिलों में भी इसी प्रकार के धरने आयोजित हुए। इंदौर में आयोजित धरने को मालवा प्रांत के संघचालक कृष्ण कुमार आष्ठाना और प्रांत प्रचारक पराग अभ्यंकर ने धरने को संबोधित किया। इसी प्रकार ग्वालियर में आयोजित धरने को मध्यक्षेत्र के संघचालक श्रीकृष्ण माहेश्वरी ने संबोधित किया। धरने को ग्वालियर जिला भाजपा अध्यक्ष वेदप्रकाश शर्मा और पूर्व विभाग संघचालक वैद्यनाथ शर्मा ने भी संबोधित किया। प्रदेशभर में आयोजित धरने में लाखों की संख्या में लोगों ने भागीदारी कर केन्द्र की कांग्रेसनी यूपीए सरकार के खिलाफ अपना आक्रोश व्यक्त किया।


देश का अब और बंटवारा स्वीकार नहीं : माहेश्वरी

भोपाल। केन्द्र की कांग्रेसनीत यूपीए सरकार अपनी नाकामी छिपाने और जनता का ध्यान मूल समस्याओं से बंटाने के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को बदनाम करने का दुष्प्रयास कर रही है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मध्यक्षेत्र संघचालक श्रीकृष्ण माहेश्री ने भोपाल में पत्रकारों से यह बात कही। श्री माहेश्वरी ने देशभर में आयोजित होने वाले धरने के दो दिन पहले पत्रकारों को संबोधित कर रहे थे।
उन्होंने कहा कि वर्तमान केन्द्र सरकार के रवैये से देश एक और बंटवारे की ओर अग्रसर हो रहा है। लेकिन संघ इसे किसी भी हालत में बर्दाश्त नहीं करेगा। कश्मीर में जिस तरह के हालात हैं, वहां के लिए स्वायत्ता की मांग की जा रही है, यह एक और बंटवारे की तैयारी है। वहां की राज्य सरकार भी केन्द्र की शह पर अलगाववादियों का साथ दे रही है। उन्होंने कहा कि 1947 में जब देश का बंटवारा हुआ तब संघ की ताकत कम थी। लेकिन अब संघ देश का दूसरा बंटवारा होने नहीं देगा। संघ इस प्रकार के किसी प्रयास का पुरजोर विरोध करेगा। विरोध के स्वरूप के बारे में श्री माहेश्वरी ने कहा कि संघ किसी प्रकार की हिंसा में विश्वास नहीं करता। संघ का विश्वास देश की जनशक्ति में है।
संघ के क्षेत्र. संघचालक ने केन्द्र सरकार पर अपनी नाकामी छिपाने के लिए हिन्ुदओं और संघ को बदनाम किए जाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि वोट की राजनीति के कारण ऐसा किया जा रहा है। देश के कुछ हिस्सों में बम विस्फोट में संघ के वरिष्ठ कार्यकर्ता इन्द्रेश कुमार का नाम एक राजनैतिक षड्यंत्र के तहत जोड़ा गया है। एटीएस बिना किसी सबूत के संघ और संघ कार्यकर्ताओं का नाम घसीट रही है। यह सब कांग्रेस के इशारे पर हो रहा है।
श्री माहेश्वरी ने कहा कि आतंकवाद के नाम पर संघ और हिन्दुओं को बदनाम की सरकारी साजिश को अब सहन नहीं किया जायेगा। देश विरोधी, हिन्दुत्व विरोधी और संघ विरोधी ताकतों का हर स्तर पर मुकाबला किया जायेगा, मैदान में उतर कर इसका मुंहतोड़ जवाब दिया जायेगा।
श्री माहेश्वरी ने कहा कि हिन्दू पद भगवा आतंकवाद का आरोप, हिन्दू संगठनों व संतों पर लांछन और हाल में संघ व उसके कार्यकर्ताओं को देश में कुछ स्थानों पर घसीअना हिन्दू विरोधी राजनीति ही है। इन षड्यंत्रों के खिलाफ देशभर में बड़े पैमाने पर जन-जागरण किया जायेगा। संघ की अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक में भाग लेकर लौटने के बाद श्री माहेश्वरी बैठक के निर्णयों से अवगत कराते हुए कहा कि हिन्दू समाज कि विरुद्ध हो रहे षड्यंत्र के खिलाफ स्वयंसेवक सड़कों पद उतरकर जन-जागरण और विरोध प्रदर्शन करेंगें। श्री माहेश्वरी ने राजस्ािान की कोंग्रेस सरकार द्वारा संघ के केन्द्रीय कार्यकारिणी सदस्य इन्देश कुमार के खिलाफ लगाये गए सभी आरोप निराधार हैं। राजस्थान एटीएस के आरोप पत्र से ही साफ जाहिर होता है कि इन्द्रेश के खिलाफ न तो कोई आरोप है और न ही उन्हें आरोपी बनाया गया है। जांच के दौरान राजस्थान एटीएस ने पिछले महीनों में एक बार भी बातचीत नहीं की। संघ राजस्थान एटीएस से तीन बार आग्रह कर चुका है कि इंदे्रश कुमार को कब उनके पास भेजा जाए। लेकिन एटीएस ने अभी संघ को जवाब नहीं दिया है। इन्द्रेश कुमार के खिलाफ आजतक कोई सबूत भी पेश नहीं किया गया है। इसके बावजूद कांग्रेस सरकार बार-बार संघ और इंदे्रश कुमार का नाम घसीट रही है। श्री माहेश्वरी ने कहा कि संघ और उनके कार्यकर्ताओं के खिलाफ राजनैतिक साजिश के तहत किए जा रहे दुष्प्रचार को संघ न्यायालय समेत सभी मंचों पर चुनौती देगा। श्री माहेश्वरी ने ग्वालियर में पत्रकार-वार्ता को संबोधित किया।

कोई टिप्पणी नहीं: