गुरुवार, 29 जुलाई 2010

तनाव के मूल कारण को पहचानें : डॉ. नागेन्द्र


भोपाल। 29 जंलाई। बढ़ते तनाव के उचित प्रबंधन के लिए हमें कारणों को समझना होगा। इसमें योग की भूमिका महत्वपूर्ण हो सकती है। यह विचार डॉ. एच.आर. नागेन्द्र ने ‘विज्ञान की बात सबके साथ’ अभियान के तहत आयोजित एक कार्यक्रम में व्यक्त किए। स्पंदन एवं पुलिस कल्याण केन्द्र के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित इस कार्यक्रम में डॉ0 नागेन्द्र ने तनाव पबंधन एवं योग विषय पर चर्चा की। डॉ. नागेन्द्र हिन्दू यूनिवर्सिटी आॅफ अमेरिका के अध्यक्ष और स्वामी विवेकानंद योग अनुसंधान संस्थान बैंगालूरू के कुलपति हैं।
स्पंदन एवं पुलिस कल्याण केन्द्र द्वारा आयोजित इस परिचर्चा में बोलते हुए डॉ. नागेन्द्र ने बताया कि तनाव के फलस्वरूप अनेक मनोकायिक रोग जैसे - डायविटीज, ब्लडप्रेशर, डिप्रेशन आदि होते हैं जिन्हे केवल दवाओं के द्वारा ठीक करना कारगर सिद्ध नहीं होता। इसके लिए हमें योग आधारित जीवन शैली को अपनाना होगा। विदेशों में योग के बारे में हो रहे अनुसंधानों का उल्लेख करते हुए डॉ. नागेन्द्र ने कहा कि अब अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी इस बात को माना जाने लगा है कि तनाव के बेहतर प्रबंधन के लिए योग अत्यन्त उपयोगी है। डॉ. नागेन्द्र ने परिचर्चा में योग के बारे में पूछे गए सवालों का जवाब भी दिया।
कार्यक्रम का आयोजन टी.टी. नगर स्टेडियम के ध्यानचंद हॉल में हुआ। कार्यक्रम में पुलिस कल्याण केन्द्र की संरक्षिका श्रीमती रीता राउत, भोपाल आईजी श्री शैलेन्द्र श्रीवास्तव, आईजी इंटेलिजेंस श्रीमती अनुराधा शंकर, खेल एवं युवा कल्याण विभाग के संचालक श्री संजय चैधरी, डीआईजी राजेश गुप्ता, भोज वि.वि. के कुलपति एस.एस. सिंह, वरिष्ठ अधिवक्ता जी.के. छिब्बर के अलावा बड़ी संख्या में पुलिस अधिकारी और अन्य गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन श्रीमती आरती राव ने किया। स्पंदन संस्था के सचिव अनिल सौमित्र ने आभार प्रकट किया।

कोई टिप्पणी नहीं: