मंगलवार, 29 सितंबर 2009

सैकड़ों स्वयंसेवकों की उपस्थिति में स्व. श्री नरेश मोटवानी को अंतिम विदाई

विश्व संवाद केन्द्र
100/45, शिवाजी नगर, भोपाल
0755-2763768, 0-9425008648

दिनांक 29.09.2009


भोपाल। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के निवर्तमान सरसंघचालक श्री कुप्. सी. सुदर्शन की उपस्थिति में सैंकड़ों स्वयंसेवकों और समाज के बन्धुओं ने स्व. श्री नेरश मोटवानी को अंतिम विदाई दी। इस अवसर पर श्री सुदर्शन जी, भोपाल विभाग के संघचालक श्री कांतिलाल चतर, प्रांत सेवा प्रमुख श्री प्रदीप खांडेकर, प्रांत शारीरिक प्रमुख श्री विलास गोळे सहित सैकड़ों कार्यकर्ता और स्वयंसेवक उपस्थित थे। सेंट्रल सिंधी पंचायत के अध्यक्ष बंसीलाल इसराणी और महासचिव श्री गिरधारी लाल भीखानी, सचिव श्री किशन लाल आशुदानी, लालघाटी सिंधी पंचायत के अध्यक्ष लालचंद ममतानी आदि उपस्थित थे। सभी ने स्व. श्री नरेश मोटवानी को अश्रुपूरित श्रद्धांजलि देते हुए भगवान से प्रार्थना की कि श्री मोटवानी की आत्मा को सदगति दें और उनके परिवार को दुःख सहने की शक्ति प्रदान करें।
इस अवसर पर पत्रकारों द्वारा पूछे जाने पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक के प्रांत शारीरिक प्रमुख श्री विलास गोळे ने बताया कि संघ के कार्यकर्ता और स्वयंसेवक पूरी तरह मोटवानी परिवार के साथ खड़े हैं। उन्होंने कहा कि संघ के कार्यकर्ताओं ने तत्काल उपचार के लिए उन्हें अस्पताल पहुचा कर अपने स्वयंसेवक को बचाने की हरसंभव कोशिश की, लेकिन हमारा दुर्भाग्य कि हम श्री मोटवानी को बचा नहीं पाए। श्री विलास गोळे ने पुनः दुहराया कि पुलिस-प्रशासन द्वारा की जा रही जांच में हम पूर्ण सहयोग करेंगे और संघ के स्वयंसेवक मोटवानी परिवार की हर संभव सहायता करेंगे।
अंतिम संस्कार में भोपाल के विधायक श्री उमाशंकर गुप्ता, प्रदेष भाजपा उपाध्यक्ष एवं सांसद श्री अनिल दवे, भोपाल विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह, उपाध्यक्ष श्री विष्णु खत्री, नगर निगम के अध्यक्ष श्री रामदयाल प्रजापति, श्री भगवानदास सबनानी, विश्व हिन्दू परिषद् के श्री बी.एल. तिवारी, श्री देवेन्द्र रावत, राष्ट्रीय सिख संगत के श्री बिहारीलाल,, लघु उद्योग भारतीय के अ.भा. मंत्री श्री जितेन्द्र गुप्ता, प्रज्ञा प्रवाह के श्री दीपक ष्षर्मा, अधिवक्ता परिषद के श्री बी के संाघी साहित्य अकादमी के निदेषक डाॅ देवेन्द्र दीपक,, निराला सृजन पीठ के श्री रामेष्वर मिश्र पंकज सहित अनेक संगठनों के कार्यकर्ता और समाज के वरिष्ठ लोग उपस्थित थे।

3 टिप्‍पणियां:

mahashakti ने कहा…

यह बहुत ही दु:खद था, ईश्‍वर स्‍व. मोटवानी जी की आत्‍मा को शान्ति प्रदान करे, स्‍वयंसेवक शहादत के लिये ह‍ी जाने जाते है।

ऊँ श‍ान्ति! शान्ति!! शान्ति!!!

Ram ने कहा…

Just install Add-Hindi widget button on your blog. Then u can easily submit your pages to all top Hindi Social bookmarking and networking sites.

Hindi bookmarking and social networking sites gives more visitors and great traffic to your blog.

Click here for Install Add-Hindi widget

Suresh Chiplunkar ने कहा…

एक दुखद दुर्घटना, मेरी संवेदनाएं…